Home बड़ी खबरें गुरु -शिष्य हुए परिणय बध।

गुरु -शिष्य हुए परिणय बध।

249
प्रेम कहानी पढ़ते-पढाते परवान चढ़ गई।।
सुल्तानगंज (भागलपुर)-पटना:-
प्रेम कभी भी कहीं किसी से हो सकता है यह सच है, लेकिन जब गुरु शिष्या के बीच का संबंध शादी तक पहुंच जाए तो समाज में इसकी चर्चा स्वाभाविक है। गुरु और शिष्‍य को एक आदर्श नजरों से देखा जाता है, जिसमें सिर्फ सम्‍मान ही रहता है। लेकिन आजकल ऐसे कई किस्‍से सामने आ चुके हैं, जहां गुरु और शिष्‍या के बीच शादी होने की बात कही गई है। यह मामला भागलपुर और बांका जिले का है। भागलपुर के रोहित और बांका की काजल की यह प्रेम कहानी पढ़ते-पढाते परवान चढ़ गई। काजल को रोहित पसंद आ गया। लेकिन वह बोल नहीं पा रही है। काजल को इशारे को रोहित ने समझ लिया। बस क्‍या था दोनों को एक-दूसरे के प्रति इतना प्‍यार हो गया कि दोनों ने एक साथ रखने का निर्णय ले लिया।
आखिर दोनों कब तक छुप-छुप कर मिलते। इसकी चर्चा होनी शुरू हो गई थी। इसके बाद दोनों ने बिना किसी को बताए मंदिर में शादी कर ली।
भागलपुर के सुल्‍तागनंज प्रखंड क्षेत्र के कटहरा पंचायत अंतर्गत कुमारपुर गांव निवासी रोहित कुमार सुल्तानगंज बाजार एवं बांका जिलांतर्गत शंभूगंज के झखरा नहर मोड़ पर दिशा फिजिक्स नामक कोचिंग का संचालन करता है। वहां बांका के शंभूगंज प्रखंड के बिरनौधा गांव की काजल पढ़ने आती थी। इसी दौरान दोनों को एक-दूसरे से प्‍यार हो गया। लॉकडाउन में शिक्षण संस्थान बंद होने के कारण ऑनलाइन पढ़ाई के साथ दोनों का प्यार भी गहराता चला गया। इस दौरान दोनों ने चोरी-चुपके शादी कर ली। इस शादी का वीडियो और फोटो इंटरनेट मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। इस पर आपत्तिजनक टिप्पणियों के बाद खुद शिक्षक रोहित ने एक ऑडियो जारी किया है। जिसमें उन्‍होंने स्‍वीकार्य किया है कि हमदोनों ने प्रेम विवाह किया है। शादी के बाद दोनों के स्‍वजनों ने रोहित और काजल को स्‍वीकार्य कर लिया है। उन्‍होंने कहा कि प्रेम विवाह करना कोई गुनाह नहीं है। इससे जातिवाद और दहेजप्रथा पर अंकुश लगेगा।
Previous articleजन्मदिन के दिन ही प्रेमिका के साथ किया दुष्कर्म।।
Next articleकोरोना संक्रमित सास का ‘बदला’, बहू को जबरन गले लगाकर किया पॉजिटिव