Home चंद्रपूर  आख़िरकार अतिक्रमणकारियों पर रेलवे का चला बुलडोजर ।।

आख़िरकार अतिक्रमणकारियों पर रेलवे का चला बुलडोजर ।।

216
वेकोलि का रेलवे साइडिंग बनाने का रास्ता साफ।
राजनेताओं ने लोगों को किया गुमराह – आस्वासन निकले खोखले।
संवाददाता।।माजरी
वेकोलि माजरी क्षेत्र मे रेलवे साइडिंग विस्तारीकरण का कार्य अतिक्रमणकारियों के कारण पिछले पांच वर्षों से अधर में लटका हुआ था। जिसके कारण रेलवे विभाग को प्रतिदिन प्राप्त होने वाले राजस्व में एक करोड़ रुपये का घाटा होता था। अतिक्रमणकारियों के न हटने से वेकोलि और रेलवे प्रबंधन असमंजस के स्थिति में थीं। अनेको बार रेलवे प्रशासन ने सभी को अतिक्रमण हटाने के लिए नोटिस पकड़ाया। लेकिन अतिक्रमणकारी टस से मस नही होते थे। जिसका मुख्य कारण स्थानीय राजनेताओ व जनप्रतिनिधियों द्वारा लोगों को गुमराह करना रहा। जिसके वजह से लोगो का लाखो में नुकसान हुआ। लोगो को अपने घरों व दुकानों से 40 साल बाद बेघर होना पड़ा। जबकि उपविभागीय पुलिस अधिकारी आयुष नोपानी के नेतृत्व में सुबह पांच बजे से ही पुलिस की दर्जनों गाड़िया, दंगा पथक, आर.पी.एफ. टास्क फोर्स, फायरब्रिगेड, एम्बुलेंस,बुलडोजर तथा चार सौ जवानों सहित माजरी कॉलरी की घेराबंदी की गयी। जिसके बाद अतिक्रमणकारियों के सत्रह घरो और दुकानें को बुलडोजर से हटाना सुरु किया गया। जिसमे कुछ लोगों द्वारा आपत्ति जताने पर पुलिस द्वारा नजरबंद कर दिया गया। और कुछ लोग कारवाही से बचने के लिए भाग निकले। फिलहाल सत्रह घरों और दुकानों को तोड़ा गया। अतिक्रमण हटाने का काम दोपहर तक चलते रहा। अपने आशियानों की अपने आँखों के सामने टूटते देख अनेकों दुकानदारों के चहेरों पर मायूसी दिखी। माजरी में सुबह से ही सभी दुकानदारों ने दुकाने बंद रखी थी जिसकी वजह से मार्केट में पूरा सन्नाटा छाया रहा। ज्ञातव्य ही कि रेलवे साइडिंग बनने के बाद वेकोलि का कोयला ढुलाई की गति बढ़ेगी। जबकि माल ढुलाई से रेलवे की प्रतिमाह करोडो रुपये का लाभ मिलेगा। किसी तरह की अप्रिय घटना ना घटे पुलिस विभाग तथा आर.पी. एफ. की टीम ने चाकचौबंद सुरक्षा व्यवस्था कर रखी थी।
Previous article*अपघाती मृत्यू टाळण्यासाठी दुचाकीस्वारांनी स्वप्रेरणेने हेल्मेट परिधान करावे*
Next articleआयुध निर्मानी रुग्णालय महाराष्ट्र राज्य शासनास हस्तांतरित झाल्यानंतर ही कामगारांना पूर्वी सारखाच लाभ मिळावा —– कॉम्रेड राजू गैनवार