Home कोरोना वायरस 18 से 44 साल के लोगों के टीकाकरण को कुछ दिनों के...

18 से 44 साल के लोगों के टीकाकरण को कुछ दिनों के लिए स्थगित

141

मुंबई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जून महीने से टीके की पर्याप्त आपूर्ति के बाद प्रदेश में टीकाकरण अभियान को गति मिलने की उम्मीद जताई है। उन्होंने कहा कि सरकार से टीका उत्पादक कंपनियों से बातचीत चल रही है। हमें आशा है कि जून महीने से कंपनियों की टीका उत्पादन क्षमता बढ़ेगी। इससे जून महीने के बाद टीके की आपूर्ति सुचारू रूप से शुरू हो सकेगी। इसके बाद राज्य के सभी नागरिकों के टीकाकरण गति से शुरू हो सकेगा। रविवार को छोटे बच्चों में कोरोना के प्रसार को रोकने गठित राज्य के बालरोग विशेषज्ञों के टास्क फोर्स ने बालरोग विशेषज्ञों को मार्गदर्शन किया। इस ऑनलाइन चिकित्सा परिषद के दूसरे चरण में राज्य भर के 6 हजार 300 बालरोग विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में टीके की पर्याप्त आपूर्ति के बाद 24 घंटे टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। इसके जरिए राज्य के प्रत्येक नागरिकों का टीकाकरण किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुर्भाग्य से टीके की आपूर्ति नहीं हो रही है। इस कारण राज्य में 18 से 44 साल के लोगों के टीकाकरण को कुछ दिनों के लिए स्थगित किया गया है। राज्य सरकार 18 से 44 साल आयु के 6 करोड़ लोगों के लिए 12 करोड़ टीका एकमुश्त राशि देकर खरीदने के लिए तैयार है। लेकिन टीका उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों संक्रमित होने का खतरा है। लेकिन अभिभावकों को घबराने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि लोगों का पारिवारिक डॉक्टर पर विश्वास होता है लेकिन छोटे बच्चों के उपचार के लिए तो अभिभावकों का पारिवारिक डॉक्टर पर एक तरीके से अंधविश्वास होता है। अभिभावक बच्चों के लिए पारिवारिक डॉक्टर की हर सलाह मनाने के लिए तैयार हो जाते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार के दिशानिर्देश के बाद 18 साल से कम आयु वर्ग वाले बच्चों को भी टीकाकरण किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी अभियान का दायरा बढ़ता जा रहा है। कोरोना की पहली लहर में बुजुर्गों और दूसरी लहर में युवकों को खतरा था। अब तीसरी लहर बच्चों के संक्रमित होने का चिंता है।

Previous articleसरकारच्या उदासिन धोरणाच्या निषेधार्थ राज्यभरातील पत्रकारांचे अन्नत्याग व आत्मक्लेष आंदोलन…
Next articleरेत उत्खनन पर चुप्पी से प्रशासन पर बड़ा सवाल.