Home क्राईम वर्ष भर में साइबर अपराध में वृद्धि।

वर्ष भर में साइबर अपराध में वृद्धि।

105

दर्जनों व्यक्ति बने ऑनलाइन ठगों के शिकार।।
संवाददाता।माजरी
कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के दौरान मोबाइल और लैपटॉप का इस्तेमाल काफी बढ़ गया है. साइबर अपराधी इसका फायदा उठा रहे हैं और कई लोग फ्रॉड की चपेट में आ चुके हैं। कई लोग कम समय में ज्यादा पैसे के लालच में फंस रहे हैं. किसी को एसएमएस या ईमेल, व्हाट्सएप मैसेज (लॉटरी फ्रॉड) भेजकर 25 लाख रुपये का लॉटरी टिकट भेजने का झांसा दिया जा रहा है तो किसी को कम कीमत का सामान ऑनलाइन पर धोखाधड़ी से मिल रहा है। माजरी पुलिस ने जनता से ऐसे साइबर अपराधों से सावधान रहने की अपील की है, क्योंकि संदिग्धों द्वारा मुहैया कराए गए बैंक खातों में लोग ठगी करते हैं.साइबर अपराध के आरोपियों ने अपराध का नया तरीका शुरू किया है. यानी ऑनलाइन सेक्सटॉर्शन (यौन उत्पीड़न) फेसबुक पर किसी लड़की या महिला के नाम से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजना है, फिर उसके बाद लड़की, महिला उसके साथ फेसबुक मैसेंजर पर चैट करती है और लड़के का व्हाट्सएप नंबर लेती है। फिर लड़की साइबर क्राइम में व्हाट्सएप नंबर पर चैट कर उस लड़के को उकसाने का काम करती है। जिसके बाद चैट करते समय सामने वाला व्यक्ति निर्देशानुसार अश्लील तस्वीरें भेजने लगता है। फिर उसी फोटो का इस्तेमाल कर ब्लैकमेल करने के लिए किया जाता है। जिसमे पैसे की मांग की जाती है। वह व्यक्ति बदनामी के डर से पैसे दे देता है। इसलिए व्हाट्सएप पर अश्लील फोटो, वीडियो पोस्ट का चलन बढ़ रहा हैं। जिसमे कई लोग इसके शिकार हो चुके हैं। इसलिए नागरिकों को सतर्क रहने की जरूरत है। फेसबुक पर किसी अजनबी की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार न करें। किसी भी घटना के मामले में घबराएं नहीं और पुलिस थाने या साइबर सेल को इस विषय मे सूचना दें। अज्ञात मोबाइल नंबरों से कॉल मैसेज, लिंक, ऐप नहीं खोले जाने चाहिए और अन्य लोगों को भी जागरूक और सतर्क किया जाना चाहिए। लॉटरी का मैसेज आते ही डिलीट कर दें, मैसेज में किसी भी लिंक को ना खोलें। अपने बैंक के बारे में व्यक्तिगत जानकारी न दें। ओटीपी साझा नहीं किया जाना चाहिए साथही ऑनलाइन साइट से सामान खरीदते समय बिना सामान देखे पैसे का लेन-देन नहीं करना ना करे ऐसा पुलिस विभाग ने अपील की है। माजरी पुलिस के निरीक्षक विनित घागे का कहना है कि, आश्वस्त हुए बिना मोबाइल पर ओटीपी न दें और फोन से भी पैसे न भेजें, भले ही कोई परिचित किसी रिश्तेदार से बिना पुष्टि के पैसे मांगे, सावधान रहें अगर कोई अजनबी ऑनलाइन दोस्त बना रहा है, वीडियो कॉल कर रहा है या अश्लील बातें कर रहा है तो इसकी जानकारी पुलिस या साइबर सेल को दे।

Previous articleमामूली विवाद पर महिला सरपंच से हाथापायी।।
Next articleगांवों में स्पीड ब्रेकर बनाने की होड।।