Home चंद्रपूर  चंद्रपुर जिले से शराबबंदी हटी।।

चंद्रपुर जिले से शराबबंदी हटी।।

150
शराबबंदी हटने से कही खुशी तो कही गम।।
अवैध दारू तस्करों का बिगड़ा बजट।।
*शराबबंदी हटने पर कैबिनेट मंत्री वडेट्टीवार ने कहा- शराबबंदी की वजह से अवैध दारू की बिक्री बढ़ी, महिलाएं और बच्चे तक इसकी बिक्री के गैरकानूनी व्यवसाय में लग गए थे।।*
चंद्रपुर
एक तरफ जहां शराब कारोबारियो में खुशी का माहौल है, वही बड़े अवैध दारू तस्करों में गम का माहौल बना हुआ है। महाराष्ट्र सरकार ने चंद्रपुर जिले में करीब छह साल से लागू शराबबंदी को हटाने का महत्वपूर्ण निर्णय गुरुवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में लिया है। अब शराबबंदी हटाने के राज्य सरकार के निर्णय के समर्थन में कैबिनेट मंत्री विजय वडेट्‌टीवार चौंकाने वाला तर्क देकर सुर्खियों में आ गए हैं। महाराष्ट्र सरकार में राहत व पुनर्वसन मंत्री वडेट्टीवार चंद्रपुर जिले के प्रभारी मंत्री भी हैं। उन्होंने कहा, “शराबबंदी लागू होने की वजह से चंद्रपुर जिले में बड़े पैमाने पर अवैध शराब की बिक्री बढ़ गई थी। युवाओं के साथ-साथ बड़ी संख्या में जिले के लोग इन अवैध शराब का सेवन करने लगे थे। यहां तक की महिलाएं और बच्चे तक अवैध दारू की बिक्री के व्यवसाय में लग गए थे। जिसकी वजह से चंद्रपुर जिले में आपराधिक घटनाओं में वृद्धि हो रही थी। इस संबंध में राज्य सरकार ने जिस समिति का गठन किया था। उसकी रिपोर्ट के आधार पर शराबबंदी हटाने का निर्णय लिया गया है।”
*साल 2015 से चल रही थी शराब बंदी*
सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. अभय बंग सहित कई लोगों की मांग के बाद अप्रैल 2015 से विदर्भ के चंद्रपुर जिले में शराबबंदी लागू की गई थी। अब चंद्रपुर से शराबबंदी हटाने के निर्णय पर राज्य सरकार की ओर से जानकारी दी जा रही है कि चंद्रपुर जिले में शराबबंदी लागू करने से सरकार को 2,570 करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ है। राज्य सरकार को पिछले पांच वर्षों में 1,606 करोड़ रुपए के उत्पादन शुल्क और 964 करोड़ रुपए के बिक्रीकर से हाथ थोना पड़ा है। इसके अलावा चंद्रपुर में शराबबंदी से पहले साल भर में कितनी आपराधिक घटनाएं होती थीं और शराबबंदी के बाद वहां किस तरह से आपराधिक घटनाएं बढ़ गईं। इसका भी आंकड़ा जारी कर राज्य सरकार की ओर से चंद्रपुर में शराबबंदी हटाए जाने का समर्थन किया जा रहा है।
शराबबंदी हटाने का निर्णय दुर्भाग्यपूर्ण –
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और पूर्व वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने चंद्रपुर जिले से शराबबंदी हटाए जाने के निर्णय को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। फडणवीस ने कहा कि इस निर्णय का दूरगाामी परिणाम होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के संकट के वक्त राज्य के स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति पर ध्यान देने के बदले महाविकास आघाडी सरकार की प्राथमिकता क्या है?
उन्होंने आगे कहा कि इस निर्णय से स्पष्ट हो गया है। मुनगंटीवार ने महाविकास आघाड़ी सरकार में शामिल कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि शराबबंदी हटाए जाने के फैसले से एक बार फिर से साबित हो गया है कि कांग्रेस अब पहले की तरह महात्मा गांधी के सिद्धांत पर चलने वाली पार्टी नहीं रही।
*महाराष्ट्र सरकार के निर्णय में विरोधाभाष*
चंद्रपुर जिले में शराबबंदी को लेकर वहां के लोगों की क्या राय है? इसका पता लगाने और लोगों की राय जानकर रिपोर्ट देने के लिए 12 जनवरी 2021 को पूर्व प्रधान सचिव रमानाथ झा की अध्यक्षता में 13 लोगों की एक समिति का गठन किया गया था। बताया जा रहा है कि चंद्रपूर जिले के करीब ढाई लाख से अधिक लोगों ने शराबबंदी हटाने के पक्ष में और 30 हजार लोगों ने शराबबंदी जारी रखने के पक्ष में समिति के समक्ष अपनी राय दी थी। चंद्रपुर जिले से शराबबंदी हटाए जाने का निर्णय लेते वक्त वहां के लोगों की इस राय को भी एक प्रमुख वजह बताई जा रही है। जबकि शराबबंदी जारी रखने की राय रखने वालों का कहना है कि राज्य सरकार का शराबबंदी हटाने का निर्णय विरोधाभाषी है।
Previous articleगढ़चिरोली में शराब पर से प्रतिबंध हटाने के लिए राजनीतिक हलचल तेज़।।
Next articleक्या राज्य सरकार शराब लाइसेंसों के नवीनीकरण के लिए नए मानदंड लागू करेगी?