Home कोरोना वायरस महाराष्ट्र में अनलॉक पर कंफ्यूजन !!

महाराष्ट्र में अनलॉक पर कंफ्यूजन !!

118
मंत्री वडेट्टीवार ने कहा था-5 चरण में अनलॉक होंगे शहर ?  सरकार ने कहा-पाबंदियां नहीं हटाई गई हैं।।
मुंबई।।
महाराष्ट्र में लॉकडाउन हटाने को लेकर गुरुवार को काफी भ्रम की स्थिति बनी रही। महाराष्ट्र सरकार के डिजास्टर मैनेजमेंट मंत्री विजय वडेट्टीवार ने सीएम ऊद्धव के साथ हुई हाईलेवल मीटिंग के बाद मीडिया में अनलॉक की बात कही। वडेट्टीवार ने कहा कि महाराष्ट्र को 5 चरणों में अनलॉक करने का फैसला लिया गया है। इस बयान के करीब 4 घंटे बाद महाराष्ट्र सरकार ने स्पष्ट किया कि अभी राज्य में कहीं भी अनलॉक का फैसला नहीं लिया गया है।
दरअसल, वडेट्टीवार जिस बैठक में मौजूद थे, उस बैठक में अनलॉक को लेकर चर्चा हुई और चरणबद्ध तरीके से राज्य में पाबंदियां हटाने का मसौदा रखा गया। इसी के तहत 5 चरणों में अनलॉक का फॉर्मूला भी सामने आया था। लेकिन, मंत्रीजी ने बैठक से बाहर आते ही अनलॉक का ऐलान कर दिया। साथ ही उन 18 जिलों के नाम भी बता दिए, जहां शुक्रवार से अनलॉक लागू किया जाने वाला था। सूत्रों के मुताबिक, मंत्रीजी द्वारा फैलाए गए इस कन्फ्यूजन के लिए उन्हें फटकार भी पड़ी है। इसके बाद CMO ने अनलॉक को लेकर स्थिति स्पष्ट की। उनकी ओर से कहा गया कि राज्य में कहीं भी लॉकडाउन के दौरान लगाए गए प्रतिबंध हटाने का फैसला अभी नहीं किया गया है।राज्य में लगी पाबंदियों को हटाया नहीं गया है।
सरकार महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाने या कम करने को लेकर महत्वपूर्ण निर्णयों की घोषणा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे करते रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, इस बार अनलॉक जैसी लोकप्रिय घोषणा कांग्रेस कोटे से कैबिनेट मंत्री वडेट्‌टीवार ने की, तो महाविकास आघाडी सरकार में शामिल शिवसेना और राकांपा के मंत्री नाराज हो गए। लिहाजा राज्य सरकार ने डैमेज कंट्रोल के लिए वडेट्‌टीवार की घोषणा के कुछ घंटे के भीतर अधिकृत बयान जारी कर कहा है कि अनलॉक का कोई निर्णय नहीं लिया गया है।
राज्य सरकार ने कहा, मदद एवं पुनर्वसन विभाग द्वारा पांच चरणों में अनलॉक करने का जो प्रस्ताव दिया गया है। वह अभी विचाराधीन है। स्थानीय प्रशासन से अनलॉक संबंधित प्रस्ताव के बारे में अधिक जानकारी इकट्‌ठा की जा रही है। क्योंकि कोरोना का संक्रमण अभी भी पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ है। कई ग्रामीण इलाकों में अभी भी कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है। कोरोना वायरस खतरनाक होने के साथ ही उसका स्वरूप भी बदल रहा है। इन सभी बातों को ध्यान में रखकर पाबंदियों में ढिल देनी है या नहीं? इस बारे में विस्तृत समीक्षा करने के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा।
नागपुर पहुंच कर वडेट्‌टीवार ने दी सफाई।।
मदद एवं पुनर्वसन मंत्री विजय वडेट्‌टीवार ने नागपुर पहुंच कर अपने अनलॉक वाले बयान पर सफाई देते हुए कहा कि मीटिंग में पांच चरणों में अनलॉक करने की बात तय हुई। जिसे बैठक में सैद्धान्तिक मंजूरी दी गई। उन्होंने कहा कि दरअसल लॉकडाउन लादना यह न तो सरकार का काम है और न ही सरकारी की जिम्मेदारी है। जिन जिलों के लोगों ने कोरोना संक्रमण को रोकने में मदद की है। वहां चरणबद्ध ढंग से लॉकडाउन हटाने की नीति तय हुई है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री ने इसे सैद्धान्तिक मंजूरी भी दी है। इसी वजह से किस जिले में कितनी पॉजिविटी रेट है। वहां ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता कितनी है। इस आधार पर अनलॉक शुरू करने का निर्णय लिया गया है। जिसे गुरुवार को डिजास्टर मैनेजमेंट की हुई बैठक में सैद्धान्तिक मंजूरी दी गई। वडेट्‌टीवार ने अपनी सफाई में कहा कि लॉकडाउन हटाने का आदेश कल या परसो सरकार की ओर से जारी किया जाएगा और परंतु इस संबंध में अंतिम आदेश मुख्यमंत्री की ओर से जारी किया जाएगा।
क्या 4 जून से महाराष्ट्र में अनलॉक शुरू हो जाएगा? इसके जवाब में उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि पूरे महाराष्ट्र को अनलॉक करने का निर्णय नहीं लिया गया है। पूरे महाराष्ट्र को पूरी तरह से ओपन नहीं किया गया है। जिन जिलों में पॉजिविटी रेट कम है। जिन जिलों में ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता सरकार द्वारा निर्धारित सीमा में है। सिर्फ उन जिलों में ही चरणबद्ध ढंग से लॉकडाउन में ढिल देने का निर्णय लिया गया है।
इससे पहले मंत्री वडेट्टीवार ने दिन में कहा था, ‘राज्य के कुल जिलों को 5 लेवल में बांटा गया। लेवल-5 का मतलब है कि इस लेवल के जिलों में संक्रमण दर काफी कम है। इससे कम संक्रमण वाले जिलों को लेवल, 4, 3, 2 और 1 में रखा गया है। पहले चरण में 18, दूसरे चरण में 6, तीसरे चरण में 10, चौथे चरण में 2 और पांचवें चरण में रेड जोन में आने वाले स्थान अनलॉक होंगे।
इन 18 जिलों में क्या फिर से खुलेगा?
1. रेस्टोरेंट, मॉल। 2. पार्क और खेल के मैदान। 3. 100 फीसदी क्षमता के साथ शुरू होंगे निजी, सरकारी दफ्तर 4. थिएटर, फिल्मों की शूटिंग। 5. सार्वजनिक कार्यक्रम, विवाह समारोह 100 प्रतिशत क्षमता के साथ। 6. ई-कॉमर्स। 7. जिम, सैलून। 8. 100 फीसदी क्षमता के साथ चल सकती है बसें। 9. इन जिलों से दूसरे जिले में जाने की अनुमति होगी।
Previous articleमहाविकास अघाड़ी सरकार का u टर्न।।
Next articleदेशी दारूसाठा जप्त, दोन आरोपी अटकेत।।