Home चंद्रपूर  माजरी में छठ पर्व के लिए घाटों की गई साफ-सफाई

माजरी में छठ पर्व के लिए घाटों की गई साफ-सफाई

39
वेकोली ने जेसीबी व डोजर से की घाटों की सफाई.
संवाददाता।माजरी
उत्तर भारतीयों का महापर्व छठ पूजा के नजदीक आते ही वेकोलि दवारा जेसीबी व डोज़र से सिरना घाटों की सफाई शुरू कर दिया है।माजरी क्षेत्र में उत्तर भारतीयों की संख्या सर्वाधिक होने और पिछले 30 से35 वर्षो से माजरी से भद्रावती मुख्य मार्ग सिरना नदी और वर्धा नदी के घाटों, कुचना, चारगांव नदी पर छठ पूजा उत्तर भारतीयों द्वारा चंद्रपुर जिले में बड़े ही धूमधाम से किया जाता है। इस महापूजा को देखने के लिये भारी संख्या में भाविकों की उपस्थिति भारी संख्या में होती है। आस्था का महान पर्व दीपावली के बाद आने षष्ठी के दिन भगवान सूर्य को अर्घ्य देने के पूर्ण होता है।जिसमें स्वच्छता का ध्यान देना अत्यंत ही जरूरी होता है। जिसके मद्देनजर रखते हुए सिरना नदी घाट तथा वर्धा नदी के शिवमन्दिर के समीप घाट की साफ़ सफाई तथा मार्गों के किनारे मौजूद जंगली झाड़ियों तथा कचरो की सफाई कराकर वेकोलि द्वारा अहम योगदान रहा। निजी ठेकेदार द्वारा नदी के पानी में पड़े प्लास्टिक और बड़े पत्थरों को हटाने का कार्य और पानी को रोकने के लिए रेत की बोरियां लगाया गया है। वेकोलि के भूमिगत खदान बंद होने से छठ पूजा पर ग्रहण लग गया है, लेकिन छठव्रती अब भी छठ व्रत कर रहे हैं। पिछले आठ वर्षों से सिरना नदी में पानी की कमी के बावजूद छठ व्रती वर्धा नदी के पवित्र जल में व्रत करने से क्यों कतरा रहे हैं? लेकिन मानसून को छोड़कर अन्य सभी महीनों में केवल बस्तियों के शिविर लाइन का पानी ही सिरना नदी में बहता है। फिर भी श्रद्धालुओं एवं श्रद्धालुओं की इच्छा से किसी तरह घाटों की सफाई की जाती है। छठ व्रतियों की सुविधा और नागरिकों की सुविधा को देखते हुए सभी घाटों की साफ-सफाई करवाने के साथ ही लाइटिंग- बिजली पानी आदि का पर्याप्त व्यवस्था कर बहुत हद तक कठिनाइयों को कम करने का प्रयास किया जा रहा है।

 

Previous articleडर के साये में जीवन जीरहे माजरीवासी
Next articleआज डूबते सूर्य को अर्ध्य देंगे छठव्रती।